Fringe Notes!
अहम् ब्रह्मास्मि

वर्गभेद और मानव समता

Poetry

जहाँ वर्ग भेद की ज्वाला है,

जहाँ मानव भेद की हाला है,

जहाँ अपराध भी बाटा जाता है A, B, C के भागो में,

जहाँ मानव भी आँका जाता है, वेतन के प्रतिमानो में,

क्या वहाँ भी मानव समता का उजाला है ।

written in 1984, discovered in an old diary